शनिवार, 13 मार्च 2010

परिवर्तन का दौर

*****************
महंगी हो गयी सच्चाई
मिलती नहीं
अब सहानुभूति
बहुतायत है ईर्ष्या की
और हर ओर
लक्ष्मी का ज़ोर है
नारों का शोर है
धीरे-धीरे आदमी हो रहा है
रोबोट
ये परिवर्तन का दौर है।

**********

1 टिप्पणी:

  1. parivartan hi zindgi ki sachchai hai
    jo parivartan hi na hota
    to kya hota
    insaan bandar hi rehta
    sab sehta rehta
    naaro ki zaroorat na hoti
    agar koi behra na hota.
    lakshmi kamzor hi rehti
    aur sab koi sota rehta.
    sachchai ki kimat
    sabko khud hi samajhni rahi
    jo na samajha
    samjho zindgi
    har pal ganvata raha...

    उत्तर देंहटाएं